scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Manipur Violence: जिस फोन से निर्वस्त्र महिलाओं का बनाया था वीडियो उसे पुलिस ने किया जब्त, फॉरेंसिक टीम करेगी जांच

Manipur Violence News: मणिपुर के वायरल वीडियो मामले में पुलिस अब तक 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। पुलिस ने उस फोन को भी बरामद कर लिया है जिससे निर्वस्त्र महिलाओं का वीडियो बनाया गया था।
Written by: Kuldeep Singh | Edited By: Kuldeep Singh
Updated: July 24, 2023 11:15 IST
manipur violence  जिस फोन से निर्वस्त्र महिलाओं का बनाया था वीडियो उसे पुलिस ने किया जब्त  फॉरेंसिक टीम करेगी जांच
मणिपुर में जिस फोन से निर्वस्त्र महिलाओं का वीडियो बनाया गया था उसे जब्त कर लिया गया है। (Image Credit-ANI)
Advertisement

Manipur Viral Video Update: मणिपुर में महिलाओं को निर्वस्त्र कर उनका वीडियो बनाने के मामले को लेकर सड़क से लेकर संसद तक हंगामा जारी है। कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने इस मामले में पीएम मोदी से संसद में बयान देने की मांग की है। उधर मणिपुर पुलिस इस मामले में 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। पुलिस ने आरोपियों के पास से उस फोन को भी बरामद कर लिया है जिससे उस वीडियो को बनाया गया है। पुलिस ने कहा कि फोन को फॉरेंसिक जांच के लिया भेजा गया है।

Advertisement

मणिपुर पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि 6 आरोपियों को 11 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा गया है। अन्य संदिग्ध आरोपियों की तलाश में लगातार छापेमारी की जा रही है। फोन से मिले वीडियो के आधार पर आरोपियों की पहचान की जा रही हैं। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, नाम न बताने की शर्त पर एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पकडे़ गए आरोपी से 1 मोबाइल फोन बरामद किया गया है। हमें पूरा विश्वास है कि इसी मोबाइल फोन से 4 मई को हुई घटना का वीडियो बनाया गया था।

Advertisement

क्या है पूरा मामला?

मणिपुर में पिछले दो महीने से जारी हिंसा के बाद 19 जुलाई को एक वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो में कुकी समुदाय की तीन महिलाओं को निर्वस्त्र कर सड़क पर घुमाया गया था। इनमें से एक महिला के साथ गैंगरेप भी किया गया था। पुलिस ने वायरल वीडियो के आधार पर 20 जुलाई को मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया था। मणिपुर पुलिस ने अभी तक कुल 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है। अन्य आरोपियों को पकड़ने के लिए छापेमारी की जा रही हैं।

अफवाह के कारण हुई हिंसा- अधिकारी

मणिपुर में मई महीने में भड़की जातीय हिंसा के कारण अब तक 160 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 10 हजार से अधिक लोगों को अपना घर छोड़कर रिलीफ कैंप में रहने को मजबूर हैं। पीटीआई के अनुसार, राज्य में हालात पर नजर रखने वाली विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों का कहना है कि हिंसा को बड़े पैमाने पर अफवाहों और फर्जी खबरों के कारण बढ़ावा मिला है। अधिकारियों के मुताबिक, दो महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाने का मामला भी एक अफवाह के कारण ही हुआ था।

Advertisement

मणिपुर में 3 मई को एक तस्वीर वायरल हो गई थी जिसमें पॉलीथिन में लिपटी एक महिला के शव की तस्वीर के सोशल मीडिया पर आने के बाद से ही मैतेई समुदाय के लोगों को लगा कि उनके समुदाय के महिला के साथ अत्याचार किया जा रहा है। इसका बदला लेने के मंशे से ही 4 मई को मैतेई समुदाय की भीड़ ने कुकी महिलाओं को निर्वस्त्र कर सड़क पर घुमाया और एक महिला के साथ गैंग रेप भी किया था। अधिकारी ने बताया कि 3 मई को वायरल हुई तस्वीर दिल्ली की थी और जब तक इस बात का पता चलता तब तक शर्मनाक घटना घट चुकी थी।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो