scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Manipur Violence: इंफाल में सुरक्षाबलों और भीड़ के बीच झड़प में दो घायल, BJP नेताओं के घर जलाने की कोशिश

मणिपुर के खामेनलोक में नौ लोगों की हत्या की निंदा करते हुए मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने कहा कि दोषियों को पकड़ने के लिए सुरक्षा बलों का तलाश अभियान जारी है। उनकी सरकार राज्य की एकता और अखंडता की रक्षा करेगी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: shruti srivastava
Updated: June 17, 2023 17:39 IST
manipur violence  इंफाल में सुरक्षाबलों और भीड़ के बीच झड़प में दो घायल  bjp नेताओं के घर जलाने की कोशिश
मणिपुर में हिंसा के बाद जले मकान (Source- PTI)
Advertisement

जातीय हिंसा से जूझ रहे मणिपुर के इंफाल शहर में सुरक्षाबलों और भीड़ के बीच शुक्रवार रात को हुई झड़पों में दो नागरिक घायल हो गए। अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि इंफाल में भीड़ ने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के घर जलाने की भी कोशिश की। वहीं, मणिपुर के बिष्णुपुर जिले के क्वाकटा और चुराचांदपुर जिले के कंगवई में पूरी रात गोलीबारी होने की खबर है।

पुलिस थाने में लूट की कोशिश

इंफाल पश्चिम के इरिंगबाम पुलिस थाने में लूट की कोशिश की गई। हालांकि, इस दौरान कोई हथियार चोरी नहीं हुआ। अधिकारियों के अनुसार, दंगाइयों को इकट्ठा होने से रोकने के लिए सेना, असम राइफल्स और आरएएफ ने इंफाल में आधी रात तक संयुक्त मार्च निकाला। उन्होंने बताया कि लगभग 1,000 लोगों की भीड़ ने महल परिसर के पास स्थित इमारतों में आग लगाने की कोशिश की। अधिकारियों के मुताबिक, आरएएफ ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे और रबड़ की गोलियां चलाईं।

Advertisement

विधायक के घर में आग लगाने की कोशिश

इंफाल में भीड़ ने विधायक बिस्वजीत के घर में आग लगाने की कोशिश भी की। हालांकि, आरएएफ की टुकड़ी ने भीड़ को तितर-बितर कर दिया। आधी रात के करीब इंफाल में पोरमपेट के पास भाजपा (महिला शाखा) की अध्यक्ष शारदा देवी के घर में भीड़ ने तोड़फोड़ करने की कोशिश की। सुरक्षाबलों ने युवकों को खदेड़ दिया। अधिकारियों ने बताया कि इससे पहले दिन में भीड़ ने शुक्रवार को इंफाल शहर के बीचोंबीच सड़कों को जाम कर दिया और संपत्ति को आग लगा दी।

सुरक्षा बलों के साथ झड़प

अधिकारियों ने बताया कि इंफाल में एक पुराने गोदाम को आग के हवाले किये जाने के बाद शुक्रवार शाम भीड़ की मणिपुर के त्वरित कार्रवाई बल (RAF) के साथ फिर से झड़प हुई है। वहीं एक समूह के वांगखेई, प्रोम्पैट और थांगपैट में सड़कों के बीचोंबीच टायर और लड़की के लट्ठे जलाए जिससे इंफाल में यातायात प्रभावित हुआ। देर शाम में आरएएफ ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे। अभी तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। इंफाल पूर्व में शुक्रवार तड़के गोलीबारी की आवाज सुनी गई।

केंद्रीय मंत्री के घर पर लगाई आग

मणिपुर की राजधानी इंफाल में शुक्रवार को भीड़ ने रैपिड एक्शन फोर्स (RAF) के साथ झड़प की, रास्तों पर आग जलाकर उन्हें अवरूद्ध किया और संपत्तियों में आगजनी की। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। केंद्रीय मंत्री आरके रंजन सिंह के मकान पर हमला कर तोड़फोड़ की गई और उसे जलाने का प्रयास किया गया। वहीं, शाही महल के पास स्थित आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले एक सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी के गोदाम को जला दिया गया है। सुरक्षा बलों और दमकल कर्मियों ने भीड़ की आग लगाने की कोशिश बृहस्पतिवार रात नाकाम कर दी और मंत्री के मकान को जलने से बचा लिया।

Advertisement

मणिपुर में हिंसा से अब तक 100 से ज्यादा लोगों की मौत

गौरतलब है कि मणिपुर में मई 2023 में मेइती और कुकी समुदाय के लोगों के बीच भड़की जातीय हिंसा के बाद से 100 से अधिक लोगों की जान चली गई है। मणिपुर के 11 जिलों में कर्फ्यू लागू है और इंटरनेट सेवाएं निलंबित हैं। मणिपुर में अनुसूचित जनजाति (ST) का दर्जा देने की मेइती समुदाय की मांग के विरोध में 3 मई को पर्वतीय जिलों में जनजातीय एकजुटता मार्च के आयोजन के बाद ये झड़पें शुरू हुई थीं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो