scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Manipur News: चलती रहीं हाई लेवल बैठकें, 2 महीने तक धूल फांकती रही रेप की FIR, अब पुलिस ने किया चौंकाने वाला दावा

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने बृहस्पतिवार को कहा कि भीड़ द्वारा दो महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाने के मामले में उसने मणिपुर सरकार और राज्य के पुलिस प्रमुख को नोटिस जारी किये हैं।
Written by: सुकृता बरुआ , Jimmy Leivon | Edited By: shruti srivastava
Updated: July 21, 2023 12:31 IST
manipur news  चलती रहीं हाई लेवल बैठकें  2 महीने तक धूल फांकती रही रेप की fir  अब पुलिस ने किया चौंकाने वाला दावा
मणिपुर में हिंसक घटनाएं लगातार जारी है। (Source- PTI)
Advertisement

मणिपुर में दो महिलाओं को निर्वस्त्र करके घुमाने और उनके साथ छेड़छाड़ का वीडियो सामने आने और शिकायत दर्ज होने के बीच 62 दिनों में FIR दो पुलिस स्टेशनों में धूल फांक रही है। इंडियन एक्सप्रेस को मिली जानकारी के अनुसार एफआईआर को संबंधित पुलिस स्टेशन में ट्रांसफर करने में एक महीने से ज्यादा का समय लग गया क्योंकि पीड़ित अपने घरों से भाग गए थे और दूसरे जिले की पुलिस से संपर्क किया था।

वीडियो सामने आने और उनके इस्तीफे की मांग के एक दिन बाद मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने पुलिस कार्रवाई में देरी पर कहा कि हिंसा जारी रहने के बावजूद 6,000 से अधिक एफआईआर हुईं। वीडियो सामने आने पर पुलिस मामले की पहचान करने की कोशिश कर रही थी। जैसे ही हमारे पास वीडियो आया, हम दोषियों की पहचान कर तुरंत कार्रवाई की गई और हमने मुख्य अपराधी सहित दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

Advertisement

18 मई को एक पीड़िता के पति ने पुलिस में शिकायत की थी

घटना 4 मई को मणिपुर के थाउबल जिले में घटी जहां महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाया गया, जिसके बाद 18 मई 2023 को एक पीड़िता के पति ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। फिर भी, बुधवार को वीडियो सामने आने के बाद ही वीडियो में दिख रहे चार लोग के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की और गिरफ्तार किया। चार में से एक आरोपी की पहचान 32 वर्षीय हुइरेम हेरोदास मेइतेई के रूप में की गई है, वहीं पुलिस ने अभी तक अन्य का नाम नहीं बताया है।

गृह मंत्री अमित शाह भी पहुंचे थे मणिपुर

इस मामले की जांच में कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए, पर राज्य में हिंसा पर चर्चा के लिए हाई-प्रोफाइल दौरों और उच्च-स्तरीय बैठकें जरूर जारी रहीं। 27 मई को चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ मनोज पांडे ने सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए राज्य का दौरा किया था। 29 मई को गृह मंत्री अमित शाह चार दिवसीय दौरे पर मणिपुर पहुंचे, इस दौरान कई दौर की सुरक्षा समीक्षा बैठकें हुईं। 4 जून को केंद्र सरकार ने गुवाहाटी हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश अजय लांबा की अध्यक्षता में एक जांच आयोग का गठन किया गया।

Advertisement

10 जून को, नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के प्रमुख और असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने इंफाल का दौरा किया और सीएम सिंह और अन्य हितधारकों से मुलाकात की। बाद में उन्होंने असम में कुकी हितधारकों से भी मुलाकात की। 24 जून को दिल्ली में शाह द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक हुई। 26 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की।

Advertisement

सबूतों की कमी के कारण पुलिस कार्रवाई नहीं कर सकी

मुख्यमंत्री बीरेन सिंह, डीजीपी राजीव सिंह से जब इंडियन एक्सप्रेस ने पूछा कि पुलिस को कार्रवाई करने में दो महीने से अधिक समय क्यों लगा, तो थाउबल के पुलिस अधीक्षक सचिदानंद ने कहा कि पुलिस सबूतों की कमी के कारण अब तक कोई कार्रवाई नहीं कर सकी। उन्होंने कहा, "हमें कल ही वीडियो के बारे में पता चला। अब जब हमारे पास वीडियो के रूप में सबूत हैं, तो हम कार्रवाई कर रहे हैं और गिरफ्तारियां शुरू कर दी हैं।”

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो